Artificial Intelligence क्या है और AI कैसे काम करता है | Open Artificial Intelligence in Hindi |

Artificial Intelligence क्या है : आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस – एआई (Artificial Intelligence – AI) विगत कई वर्षों से चर्चाओं का विषय बना है। मुख्यतः चैटजीपीटी और मिड जर्नी जैसे Top AI Tools के आने के बाद यह एयर भी अधिक चर्चाओं में आने लगा। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस एक क्रांतिकारी क्षेत्र है जो मानव संज्ञानात्मक कार्यों की नकल करने में सक्षम इंटेलिजेंसी मशीनें व सॉफ्टवेयर बनाता है। AI को एल्गोरिदम और कंप्यूटर प्रोग्राम के द्वारा विकसित किया जाता है, जो मशीनों को ऐसे कार्य करने में सक्षम बनाता है जिनके लिए आमतौर पर इंसानी दिमाग की आवश्यकता होती है।

एआई की अवधारणा 1950 के दशक की शुरुआत में पेश की गई थी, और तब से, यह तेजी से विकसित हुई है, लेकिन पिछले 1 दशक में AI का अगुआ बनने की होड़ बनी हुई है और इसमे अमेरिका चीन जैसे देश शीर्ष पर है। इस रेस का हिस्सा बनते हुए भारत ने भी वर्ष 2018 में National Artificial Intelligence Program- NAIP की शुरुआत की थी। Artificial Intelligence क्या है ? आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के फायदे और नुकसान, आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस के उपयोग आदि के बारे में तथ्यों के साथ चर्चा की है।

Artificial Intelligence क्या है ?

AI (एआई) की फुल फॉर्म आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (Artificial Intelligence) है, यह उन मशीनों में मानव बुद्धि के अनुकरण को संदर्भित करता है जिन्हें मनुष्यों की तरह सोचने, सीखने और रियेक्ट करने के लिए प्रोग्राम किया जाता है। साधारण भाषा मे आप आर्टिफीसियल इंटेलिजेंसी को आप कृत्रिम दिमाग समझ सकते है।

Artificial intelligence को ऐसे एल्गोरिदम और मॉडल के जरिये विकसित किया जाता है, जो कंप्यूटर या AI मशीनों को ऐसे काम करने में सक्षम बनाता है जिसके लिए आमतौर पर इंसानी बुद्धि की आवश्यकता होती है, जैसे प्रॉब्लम सॉल्विंग, क्रिएटिव आर्ट निर्णय लेना, राइटिंग, कविता लेखन और भाषा अनुवाद जैसे कार्य शामिल है।

AI को सिमुलेशन भी कह सकते है, इसमें मशीनों को ऐसे डिज़ाइन किया जाता है कि वे इंसानों की तरह सोच सके, समझ सके और फिर उसी अनुसार रियेक्ट कर सके, सिम्पली AI उसे कहा जाता है जिसे इंसानी इंटेलीजेंस प्राप्त होती है, उदाहरण के लिए ChatGPT एक Popular AI Tool है जो इंसानों की तरह सोचता है, इंसानों की तरह इनपुट को समझता है।

एआई के प्रमुख घटकों में लैंग्वेज प्रोसेसिंग शामिल है, जो मशीनों को मानव भाषा को समझने और रियेक्ट करने में सक्षम बनाता है और कंप्यूटर विज़न, जो मशीनों को विसुअल डेटा के आधार पर डिफाइन करने और निर्णय लेने में सहायता करता है।

Arrificial Intelligence का ज्यादातर उपयोग कंप्यूटर सिस्टम, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस और सॉफ्टवेयर निर्माण में किया जाता है। Artificial Intelligence के बारे में सबसे पहले John McCarthy ने 1956 में Dartmouth Conference में बताया था। Artificial Intelligence क्या है (Artificial Intelligence in Hindi) यह तो आप जान चुके है, अब एक नजर इसके AI के इतिहास पर डालते है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रकार

  • पूर्णतः प्रतिक्रियात्मक (Purely Reactive)
  • सीमित स्मृति (Limited Memory)
  • मस्तिष्क सिद्धांत (Brain Theory)
  • आत्म-चेतन (Self Conscious)

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का इतिहास

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का इतिहास प्राचीन काल से है जब दार्शनिकों ने मानव तर्क के सार पर विचार करना शुरू किया था। हालाँकि, ऑफिसियल शुरुआत 20वीं सदी के मध्य में हुई। 1950 के दशक में, एलन नेवेल और हर्बर्ट ए. साइमन जैसे कंप्यूटर वैज्ञानिकों ने पहला AI प्रोग्राम विकसित किया। “आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस” शब्द 1956 में डार्टमाउथ कॉलेज में एक मौलिक सम्मेलन में दिया गया था।

1960 और 1970 के दशक के दौरान, एआई रिसर्च को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसके परिणामस्वरूप “एआई विंटर” आया। हालाँकि, 1980 के दशक में विशेषज्ञ सिस्टम्स के आने के साथ इसका पुनरुत्थान हुआ। 1990 के दशक में मशीन लर्निंग और न्यूरल नेटवर्क में प्रगति देखी गई। हाल के दशकों में, एआई डीप लर्निंग, नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग और कंप्यूटर विजन में शानदार सफलता अर्जित की।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के फायदे और नुकसान

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस कई क्षेत्रों में कई तरह के लाभ प्रदान करता है। जैसे जैसे एआई का विकास हो रहा है इसकी उपयोगिता और लाभ बढ़ते जा रहे है। लेकिन दूसरी तरफ एआई विज्ञान के दो धारी तलवार होने की कहावत को सिद्ध करता है, इसके फायदे के साथ कई नुकसान भी है, जिससे हम आये दिन परिचित होते रहते है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के फायदे और नुकसान इस प्रकार है-

Artificial Intelligence क्या है

Artificial Intelligence के फायदे (Benefits of Artificial Intelligence)

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) विभिन्न क्षेत्रों में असंख्य लाभ प्रदान करता है, इसने कार्यो को करने और प्रॉब्लम सॉल्व करने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव लाया है। आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के फायदे इस प्रकार है-

1. व्यवसाय में सहायक

AI या आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस हमारे हर तरह के संज्ञात्मक व्यवसाय में सहायता करता है। एआई बिज़नेस एफिशिएंसी और प्रोडक्टिविटी को बेहतर बनाता है। डेटा एनालिसिस, ऑटोमेशन, रिसर्च, स्क्रिप्ट राइटिंग, क्रिएटिव राइटिंग के लिए एआई का उपयोग किया जाता है। एआई की मदद से आप अधिकतर टास्क को ऑटोमेट कर सकते है और इससे टाइम और रिसोर्सेज की बचत होती है।

2. Personalization (वैयक्तिकृत)

AI की सहायता से आप ग्राहक के हितों का विष्लेषण करके उनके हितों के अनुसार चीजो को पर्सनलाइज़ कर सकते है।

3. स्वास्थ्य देखभाल

स्वास्थ्य देखभाल में, एआई रोग निदान, दवा खोज और व्यक्तिगत उपचार योजनाओं में सहायता करता है। यह एक्यूरेसी को बढ़ाता है, त्रुटियों को कम करता है और रोगी के स्थिति में सुधार करता है।

4. अन्य

इसके अलावा, एआई वर्चुअल असिस्टेंट, चैटबॉट्स के माध्यम से व्यक्तिगत और कुशल इंटरैक्शन प्रदान करके बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव में योगदान देता है। मैन्युफैक्चरिंग जैसे उद्योगों में, एआई-संचालित रोबोट प्रोडक्शन प्रोसेस को अनुकूलित करते हैं, जिससे प्रोडक्टिविटी बढ़ती और लागत कम होती है।

Artificial Intelligence के नुकसान (Artificial Intelligence in Hindi)

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के जहां फायदे है वहीं इसके नुकसान भी काफी ज्यादा है, यह विज्ञान के दो धारी तलवार के जैसे है, जिसके फायदे के बराबर नुकसान भी है। जॉब डिस्प्लेसमेंट के नुकसान इस प्रकार है-

1. जॉब डिस्प्लेसमेंट

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस (एआई) नौकरी विस्थापन की चुनौती पेश करता है, जिससे विभिन्न उद्योगों में नौकरी की समस्या उयपन्न हो रही है। जैसे जैसे उद्योगों में Artificial Intelligence की उपयोगिता बढ़ने लगी है, वैसे वैसे कंपनियों व उद्योगों में इंसानों को रोबोट्स एयर कृत्रिम बुद्धि ने रिप्लेस कर दिया है।

चूंकि एआई सिस्टम पारंपरिक रूप से मनुष्यों द्वारा किए जाने वाले कामो को ऑटोमेट करता है, इसलिए लोगो को बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है। कई रिपोर्ट्स ये दावा करती है कि एआई प्रौद्योगिकियों के कार्यान्वयन के कारण लाखों नौकरियां खतरे में पड़ सकती हैं।

2. Security Risks

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ने हैकिंग, डेटा चोरी और अनधिकृत पहुंच की संवेदनशीलता जैसे सिक्योरिटी रिस्क बढा दिए है। एआई सिस्टम की कमजोरियों को उजागर कर सकती है, जिससे संवेदनशील जानकारी की सुरक्षा करने में चुनौतियाँ पैदा हो सकती हैं।

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का उपयोग (Use of Artificial Intelligence)

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का विभिन्न उद्योगों में व्यापक स्तर पर उपयोग होता है। स्वास्थ्य देखभाल में, एआई का उपयोग डिजीज का पता लगाने और कैंसर कोशिका की पहचान करने के लिए किया जाता है।
  • क्वालिटी कंट्रोल, मेंटेनेन्स और रोबोटिक्स जैसे अनुप्रयोगों के साथ मैनुफैक्चरिंग क्षेत्र में भी एआई का अनुप्रयोग होता है।
  • फाइनेंस और बैंकिंग में, AI धोखाधड़ी का पता लगाने और फाइनेंसियल एनालिसिस जैसे कामो में सहायता करता है।
  • एआई वैयक्तिकृत ऑनलाइन शॉपिंग, स्मार्ट कारों, मार्केटिंग, सोशल मीडिया, निगरानी आदि में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • क्रिएटिव राइटिंग, स्क्रिप्ट राइटिंग, डिजिटल मार्केटिंग, इमेज जनरेशन आदि में भी आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का व्यापक स्तर पर अनुप्रयोग होता है।

Conclusion

Artificial Intelligence विगत कई वर्षों से चर्चाओं का ज्वलन्त विषय बना हुआ है। वैज्ञानिक से लेकर बड़े उद्योगपति व सरकारें कृत्रिम बुद्धि (artificial intelligence) के फायदे व नुकसान को लेकर विचार विमर्श करते रहते है। सोशल मीडिया से लेकर कई स्तर पर AI तकनीक विकसित करने पर बहस चिढ़ी हुई है, कुछ लोगो का मानना है AI को और अधिक विकसित नही करना चाहिए क्योंकि मानव सभ्यता के लिए AI खतरनाक है। बढ़ते औद्योगिकरण ने जहां AI के विकास को बढ़ावा दिया है वहीं AI ने कई समस्याओं को जन्म भी दिया है, जिसमे जॉब डिस्प्लेसमेंट और डेटा प्राइवेसी प्रमुख है।

FAQs

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के फायदे और नुकसान

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के कई फायदे है तक वहीं नुकसान भी है, AI के फायदों में समय की बचत करना, क्रिएटिव कामो को आसानी से करना, एक्यूरेसी को बढ़ाना आदि शामिल है। AI के नुकसान में जॉब डिस्प्लेसमेंट और सिक्योरिटी रिस्क प्रमुख है।

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के उपयोग

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के दृष्टि विजन, कंप्यूटर गेम, प्रकृति भाषा संस्करण समेत कई फायदे है।

Leave a Comment