Emergency Alert Extreme Kya Hai: मोबाइल में इमरजेंसी अलर्ट आने पर क्या करे

Emergency Alert Extreme Kya Hai: क्या आपके मोबाइल पर भी Emergency Alert Extreme का मैसेज आ रहा है, तो आपको बिल्कुल भी घबराने की आवश्यकता नही है। इमरजेंसी अलर्ट क्यों आता है ? तो आपको बता दे इस wireless emergency alerts का उद्देश्य लोगो को आपदा के आने से पहले सचेत करने के लिए किया जाएगा।

सरकार ने कुछ समय पहले ही इमरजेंसी अलर्ट सिस्टम की टेस्टिंग शुरू की है। इस आर्टिकल में हम आपको Emergency Alert Extreme Kya Hai, ये क्यों भेजा जा रहा है और इसका उद्देश्य क्या है आदि के बारे में डिटेल में जानकरी देने वाले है। यदि आपके मोबाइल में भी Emergency Alert Extreme आता है तो बिल्कुल घबराएं नही और इस आर्टिकल को पूरा पढ़े।

यह भी पढ़ें:

कानपुर का सबसे अमीर आदमी कौन है: जाने कानपुर के 5 सबसे अमीर व्यक्तियों के नाम

Emergency Alert Extreme Kya Hai ?

Emergency Alert Extreme Messege आमतौर पर दोपहर 2:30 मिनट से 2:40 मिनट के बीच आता है।दूूरसंचार विभाग, भारत सरकार  द्धारा  नेशनल लेवल पर Emergency alert मैसेज भेजकर इमरजेंसी अलर्ट सिस्टम की टेस्टिंग की जा रही है।इमरजेंसी अलर्ट एक्सट्रीम एक प्रकार की इमरजेंसी अलर्ट मेसेज सिस्टम है जिसे वास्तविक आपातकाल जैसी स्थितियों के दौरान जनता तक महत्वपूर्ण जानकारी प्रसारित करने के लिए भारत सरकार द्वारा लागू किया गया है। ये अलर्ट आमतौर पर आपातकालीन स्थिति के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी देते हैं।

आबादी के बीच व्यापक पहुंच और समझ सुनिश्चित करने के लिए इमरजेंसी अलर्ट मैसेज की भाषा अंग्रेजी, हिंदी और अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में होती है। उपयोगकर्ताओं को ये अलर्ट उनके मोबाइल फोन पर प्राप्त होते हैं, आमतौर पर तत्काल ध्यान खींचने के लिए तेज़ बजर जैसी तेज आवाज मोबाइल में बजती है। ये अलर्ट प्राकृतिक आपदाओं या अन्य गंभीर स्थितियों जैसी आपात स्थिति के दौरान जनता को सूचित और सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

इमरजेंसी अलर्ट क्यों आता है ?

Emergency Alert Extreme मैसेज को भेजने का उद्देश्य सार्वजनिक सुरक्षा सुनिश्चित करने और महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए आपातकालीन अलर्ट सिस्टम की टेस्टिंग की जा रही है। नीचे दी गयी कंडीशन्स के दौरान इस Emergency Alert Extreme System का उपयोग किया जाएगा।

  • सार्वजनिक सुरक्षा:- आपातकालीन अलर्ट का प्राथमिक उद्देश्य उन आपातकालीन स्थितियों के दौरान जनता की सुरक्षा करना और सूचित करना है।
  • प्राकृतिक आपदाएँ:- तूफान, भूकंप, बाढ़ और जंगल की आग जैसी प्राकृतिक आपदाओं के दौरान निकासी निर्देश और सुरक्षा जानकारी व सलाह प्रदान करने के लिए इसका उपयोग किया जाएगा।
  • मानव निर्मित आपदाएँ:- इन अलर्ट का उपयोग औद्योगिक दुर्घटनाओं, रासायनिक रिसाव (भोपाल गैस त्रासदी) और आतंकवादी कृत्यों सहित अन्य मानव निर्मित आपदाओं के दौरान किया जाएगा।
  • महामारी के दौरान:- महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जानकारी पहुँचाने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट, जैसे बीमारी का प्रकोप या महामारी, के दौरान अलर्ट जारी किया जा सकता है।

इमरजेंसी अलर्ट मैसेज कौन भेजता है ?

आजकल आपने ये नोटिस किया होगा कि आपके मोबाइल पर एक इमरजेंसी अलर्ट मैसेज आ रहा है। मैसेज आते ही मोबाइल में तेज रिंगटोन बजने लगती है।इन इमरजेंसी अलर्ट मेसेज को दूरसंचार विभाग, भारत सरकार द्वारा भेजा जाता है। इन मैसेजेस को भेजने का उद्देश्य आपातकालीन अलर्ट सिस्टम को तैयार करना है। ये एक तरह का ट्रायल टेस्टिंग मैसेज है।

यह भी पढ़ें:

शार्क टैंक इंडिया सीजन 3: रितेश अग्रवाल से लेकर दीपिन्दर गोयल तक, जाने 8 जजो में किसकी नेटवर्थ है सबसे ज्यादा

Zoho Success story in hindi: गांव के आदमी ने बना दी हजारों करोड़ की कंपनी

इमरजेंसी अलर्ट में क्या लिखा होता है ?

“यह भारत सरकार के दूरसंचार विभाग द्धारा सेल ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम के माध्यम से भेजा गया एक नमूना परीक्षण संदेश है। कृप्या इस संदेश पर ध्यान ना दें क्योंकि इस पर आपकी ओर से कोई कार्यवाही की आवश्यकता नहीं है। यह संदेश राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्धारा कार्यान्वित किये जा रहे अखिल भारतीय आपात अलर्ट सिस्टम को जांचने हेतु भेजा गया है। इस सिस्टम का उद्धेश्य सार्वजनिक सुरक्षा बढ़ाना और आपात स्थिति के दौरान समय पर अलर्ट प्रदान करना है।”

FAQs

इमरजेंसी अलर्ट एक्सट्रीम का मैसेज क्यों आता है?

इमरजेंसी एलर्ट एक्सट्रीम मैसेज सरकार के द्वारा टेस्टिंग के लिए भेजा जाता है।

इमरजेंसी एलर्ट एक्सट्रीम मैसेज कौन भेजता है?

इमरजेंसी अलर्ट एक्सट्रीम मैसेज दूरसंचार विभाग द्वारा भेजा जाता है।

Leave a Comment