Navaratri 2023 Date: शारदीय नवरात्रि 2023 कब से है, जानिए कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और Timing

Navaratri 2023 Date: भारत त्योहारों का देश है, यहां अलग अलग सम्प्रदाय, धर्मो के अपने त्योहार होते हैं। ऐसा ही एक त्योहार है नवरात्रि। नवरात्रि, जो पूरे भारत में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है, एक विशेष त्योहार है। इस अवसर पर, माता के नौ रूपों की पूजा नौ दिनों तक की जाती है।

Navratri 2023 15 अक्टूबर को शुरू हो रही है और 24 अक्टूबर को ये समाप्त होगी। हिंदू पंचांग के अनुसार, यह त्योहार अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होता है। 9 दिन तक इस दिन माँ दुर्गा की पूजा की जाती है और 10वे दिन माता की प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है।

इसे भी पढ़िए:-

Mahadev Betting App Scam: 200 करोड़ की शादी, 35 करोड़ की पार्टी, ED कई बॉलीवुड दिग्गजो से पूछताछ में कर सकती है ‘ये’ सवाल

Navaratri 2023 Date

नवरात्रि या दुर्गा पूजा वर्ष में चार बार आती है- माघ, चैत्र, आषाढ़, और आश्विन। अक्टूबर होने वाली नवरात्रि को अश्विन नवरात्रि कहा जाता है, इसके अलावा अश्विन नवरात्रि को शारदीय नवरात्रि भी कहा जाता है। इसके आते ही तमस (अंधकार) का अंत होता है, और नकारात्मक माहौल की समाप्ति होती है। शारदीय नवरात्रि से मन में उमंग और उल्लास की वृद्धि होती है।

नवरात्रि में देवी की उपासना की जाती है, 9 दिन चलने वाले इस पर्व में 9 अलग अलग देवियों की पूजा की जाती है, इसलिए इसे नवदुर्गा का त्योहार भी कहा जाता है। हर स्वरूप से विशेष आशीर्वाद और वरदान प्राप्त होता है और प्रत्येक देवियों की अपना महत्व होता है।

इसके अलावा आपके ग्रहों की दिक्कतों का समापन भी होता है। इस बार, शारदीय नवरात्रि 15 अक्टूबर से शुरू हो रही है और 24 अक्टूबर को समाप्त होगी, और दसवें दिन दशहरा के रूप में मनाया जाएगा।

शारदीय नवरात्रि की तारीख

Navratri 2023 15 अक्टूबर, रविवार से प्रारंभ हो रही है। नवरात्रि की अष्टमी 22 अक्टूबर को आएगी और नवमी 23 अक्टूबर को मनाई जाएगी। नौ दिन तक चलने वाले इस उत्सव का समापन 24 अक्टूबर, यानी दशहरे के दिन होगा। शारदीय नवरात्रि अन्य नवरात्रियों में सबसे महत्वपूर्ण नवरात्रि मानी जाती है। Shardiya Navratri के पहले दिन मूर्ति स्थापना की जाती है, जिसका एक विशेष मुहूर्त होता है।

हिंदू पंचांग के अनुसार, शुभ मुहूर्त आश्विन माह की प्रतिपदा तिथि 14 अक्टूबर को रात 11 बजकर 24 मिनट पर शुरू होगा और प्रतिपदा 15 अक्टूबर को रात 12 बजकर 32 मिनट पर समाप्त होगा। जबकि उदयातिथि के अनुसार, शारदीय नवरात्रि 2023, 15 अक्टूबर को ही मनाई जाएगी।

नवरात्रि कलश स्थापना शुभ मुहूर्त (Navratri 2023 kalash sthapna shubh muhurat)

ज्योतिषाचार्यो के अनुसार इस बार की Navratri कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त पंचांग के अनुसार 15 अक्टूबर को सुबह 11 बजकर 48 मिनट से दोपहर 12 बजकर 36 मिनट तक रहेगा। Shardiya Navratri 2023 के लिए भक्तों के पास कलश स्थापना के लिए शुभ मुहूर्त कुल 48 मिनट का रहेगा।

शारदीय नवरात्रि 2023 तिथियां (Shardiya Navratri 2023 Dates)

तिथिदिनमां
15 अक्टूबर 2023प्रतिपदा तिथिमां शैलपुत्री
16 अक्टूबर 2023द्वितीया तिथिमां ब्रह्मचारिणी
17 अक्टूबर 2023तृतीया तिथिमां चंद्रघंटा
18 अक्टूबर 2023चतुर्थी तिथिमां कुष्मांडा
19 अक्टूबर 2023पंचमी तिथिमां स्कंदमाता
20 अक्टूबर 2023षष्ठी तिथिमां कात्यायनी
21 अक्टूबर 2023सप्तमी तिथिमां कालरात्रि
22 अक्टूबर 2023दुर्गा अष्टमीमां महागौरी
23 अक्टूबर 2023शरद नवरात्र व्रत पारणमहानवमी
24 अक्टूबर 2023दशहरामां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन

इसे भी पढ़िए:-

India vs Pakistan World cup 2023 Live देखना है, हॉउसफुल होने से पहले टिकट खरीदे

नवरात्रि पूजा विधि 2023 (Navratri Pooja Vidhi 2023)

  • नवरात्री की पूजा कलश स्थापना से शुरू होती है।
  • कलश में पानी और चावल के दाने डाले जाते हैं और ऊपर एक पानी वाला नारियल भी रखा जाता है.
  • कलश को एक गमले में रखा जाता है और उसमें मिटटी डालकर रखते हैं.
  • फिर कलेश को लाल कपड़े से ढका दिया जाता है।
  • कलश स्थापना के बाद, माँ दुर्गा को सिंगार का सामान चढ़ाया जाता है, जिसमें एक लाल चुन्नी, चूड़ियां समेत सभी सृंगार सामग्री शामिल होती है।
  • माँ को फल और मिठाई चढ़ाई जाती है, और उसके साथ ही माँ की आरती की जाती है.
  • फिर, इस प्रसाद को सभी को दिया जाता है.
  • कई लोग इन सभी दिनों के लिए अखंड ज्योति भी रखते हैं, और कुछ लोग इस दिन देसी घी की ज्योति करते हैं.

Leave a Comment