Navratri colours 2023: नौ दिनों तक पहने नवरात्रि के नौ रंग के कपड़े, मिलेगा माँ दुर्गा का आशीर्वाद

Navratri colours 2023: नवरात्रि हिंदुओ का एक बेहद पवित्र त्योहार है, नवरात्रि साल में चार बार आती है और देश भर में नवरात्रि दो बार मनाई जाती है- चैत्र (मार्च-अप्रैल) और शरद (अक्टूबर-नवंबर) के महीने में। नवरात्रियों में नवरात्रि के नौ रंगों (Navratri 9 Colours) का बेहद खास महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि माँ दुर्गा के नौ रूपो में अलग अलग रंगों से पूजा करने पर माँ दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है।

यह भी पढ़े:

Zoho Success story in hindi: गांव के आदमी ने बना दी हजारों करोड़ की कंपनी

Navratri colours 2023 (नवरात्रि के नौ रंग )

देश के विभिन्न हिस्सों में नवरात्रि अलग-अलग तरीकों से मनाई जाती है। हालाँकि, इस त्योहार को मनाने का प्राथमिक कारण देवी काली या दुर्गा की जीत का जश्न मनाना है। नवरात्रि के दौरान, महिलाएं नौ दिनों तक उपवास करती हैं। लोग पारंपरिक नए कपड़े पहनते हैं और दोस्तों और परिवार से मिलते हैं। देश भर में, लाखों महिलाएं नवरात्रि का व्रत रहती हैं, और घर पर नवरात्रि के दौरान विभिन्न व्यंजन तैयार किये जाते है। 9 दिनों तक चलने वाले इस पर्व पर नौ अलग अलग देवियों की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि प्रत्येक देवी कि यदि आप अलग अलग रंगों से पूजा करते है तो आप पर म दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है।

नवरात्रि के 9 रंग (9 Navratri Colors) और इनका महत्व

नवरात्रि के सभी रंगों का अपना महत्व होता है, यहां हमने नवरात्रि के नौ रंग क्रमानुसार बताए है, जिन्हें आपको दुर्गा माँ की पूजा करते वक्त पहनना चाहिए।

दिन (Day)तारीख (Date)रंग (Color)
पहला (1st)15 अक्टूबर 2023नारंगी (Orange) रॉयल ब्लू (Royal Blue)
दूसरा (2nd)16 अक्टूबर 2023पीला रंग (Yellow)
तीसरा (3rd)17 अक्टूबर 2023हरा (Green)
चौथा (4th)18 अक्टूबर 2023ग्रे रंग (Grey)
पांचवां (5th)19 अक्टूबर 2023पीला (Yellow)
छठवां (6th)20 अक्टूबर 2023सफेद (White)
सातवां (7th)21 अक्टूबर 2023लाल (Red)
आठवां (8th)22 अक्टूबर 2023आसमानी ( Sky Blue)
नौवा (9th)23 अक्टूबर 2023गुलाबी रंग (Pink)

यह भी पढ़े:

Navaratri 2023 Date: शारदीय नवरात्रि 2023 कब से है, जानिए कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और Timing

Navratri colours 2023: नवरात्रि के नौ रंग का महत्व

  • पहला दिन-मां शैलपुत्री(नीला रंग)– नवरात्रि के पहले दिन माँ शैलपुत्री की पूजा की जाती है, इस दिन नीले रंग का महत्व है, जो स्वास्थ्य समृद्धि और शक्ति का प्रतीक है।
  • दूसरा दिन-मां ब्रह्मचारिणी(पीला रंग)– नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है, इस दिन पीले रंग का महत्व है यह रंग ज्ञान और सीखने का संकेत करता है।
  • तीसरा दिन- मां चंद्रघंटा(हरा रंग)– नवरात्रि के तीसरे दिन माँ चन्द्रघण्टा की पूजा की जाती है, इस दिन हरे रंग का महत्व है।
  • चौथा दिन-मां कुष्मांडा(ग्रे रंग)– नवरात्रि के चौथे दिन माँ कुष्मांडा की पूजा की जाती है, इस दिन ग्रे रंग का अधिक उपयोग किया जाता है।
  • पांचवा दिन- मां स्कंदमाता(संतरी रंग)– पांचवे दिन, दुर्गा मां के रूप मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है। इस दिन, लोग संतरी रंग का अधिक इस्तेमाल करते हैं, जो अग्नि और शक्ति के प्रतीक के रूप में प्रसिद्ध है।
  • छठा दिन- मां कात्यानी( सफेद रंग)– नवरात्रि के छठे दिन माँ दुर्गा के रूप में कात्यायनी की पूजा की जाती है, इस दिन सफ़ेद रंग का महत्व है। यह रंग स्वच्छता, सरलता और शुद्धता को रिप्रेजेंट करता है।
  • सांतवा दिन-मां कालरात्रि(लाल रंग)– नवरात्रि के सातवें दिन माँ कालरात्रि की पूजा की जाती है, इस दिन लाल रंग का महत्व है और लाल रंग के कपड़े पहनकर माता का पूजन किया जाता है।
  • आंठवा दिन-मां महागौरी(आसमानी रंग)– 8वे दिन माँ महागौरी की पूजा की जाती है, ईद दिन आसमानी रंग का अधिक इस्तेमाल किया जाता है।
  • नौंवा दिन- मां सिद्धिदात्रि(गुलाबी रंग)– नौवे दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है, इस दिन श्रद्धालु गुलाबी रंग के कपड़े पहनकर माता की आराधना करते है।

Leave a Comment

Exit mobile version