Parle G Success Story: परिवार के 12 लोगो ने मिलकर बनाई 45 हजार करोड़ की कंपनी

यदि आप भारतमे रहते है तो आपने कभी न कभी Parle G बिस्किट अवश्य खाये होंगे। Parle G बिस्किट दुनिया का सबसे ज्यादा बिकने वाला बिस्किट है। आज हम आपको पार्ले जी की सफलता की कहानी ( Parle G Success Story) के बारे में बताएंगे। हर सेकंड लगभग 4500 पार्ले जी के बिस्किट खाये, जाते है,कंपनी एक महीने में 100 करोड़ से भी ज्यादा पैकेट का प्रोडक्शन करती है। 1929 में परिवार के 12 लोगो के द्वारा शुरू की गई यह बिस्कुट कंपनी आज 21 से ज्यादा देशों में अपने प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट करती है। आईये शुरू से जानते है क्या है पार्ले जी की सफलता की कहानी ( Parle G Success Story).

यह भी पढ़ें: इलाहाबाद का सबसे अमीर आदमी कौन है: जाने कौन है प्रयागराज के 5 सबसे अमीर आदमी, एक है बॉलीवुड के पॉपुलर एक्टर

Parle G Founder Story

Parle G Founder Story: पार्ले जी कंपनी के संस्थापक का नाम मोहनलाल दयाल चौहान है। शुरू में मोहनलाल दयाल चौहान मुम्बई में रेशम का व्यवसाय करते थे। 18 साल की उम्र में चौहान ने अपना रेशम का व्यवसाय शुरू किया था, किंतु बाद में वे भारत के स्वदेशी आंदोलन से काफी प्रभावित हुए और उन्होंने बाद में खुद का कंफेक्शनरी का बिज़नेस शुरू करने का फैसला लिया। 12 लोगो से शुरू हुई इस कंपनी में आज 50 हजार से ज्यादा कर्मचारी काम करते है।

स्वदेशी आंदोलन से प्रभावित

पार्ले जी की सफलता की कहानी का एक पहलू राष्ट्रभक्ति व भारत के सबसे सफल आंदोलनों में से एक स्वदेशी आंदोलनों से भी जुड़ा है। स्वदेशी आंदोलन का लक्ष्य विदेशी ब्रिटिश प्रोडक्ट्स का बहिष्कार करने और भारतीय वस्तुओं को बढ़ावा देना था। इसी क्रम में स्वदेशी आंदोलन से मोहनलाल दयाल चौहान भी काफी प्रभवित हुए और उन्होंने अपने रेशम का व्यवसाय बंद करके कंफेक्शनरी का बिज़नेस शुरू करने का सोचा।

कंफेक्शनरी मशीनरी का जर्मनी से किया आयात

Parle G Company की स्थापना साल 1929 में विला पार्ले में कई गयी थी। क्योंकि 1929 में सभी भारतीयो को कंफेक्शनरी प्रोडक्ट्स बनाने की कला नही आती थी और न ही उस वक्त भारत मे मशीनरी थी। इसी समस्या को सुलझाने के लिए और कंफेक्शनरी मशीनरी का आयात करने के लिए 1928 में मोहनलाल जर्मनी पहुँच गए। 1 साल तक जर्मनी में रहकर मोहनलाल दयाल चौहान जी ने कंफेक्शनरी प्रोडक्ट्स बनाने की प्रक्रिया को नजदीक से समझा व 1929 में भारत वपास आ गए।

यह भी पढ़ें: लखनऊ का सबसे अमीर आदमी कौन है: एक तो पॉपुलर टीवी सीरियल का एक्टर है

1929 में 12 लोगो से शुरू की कंपनी

जब 1929 में मोहनलाल जी जर्मनी से मशीनों का आयात करके भारत लाये तो पार्ले जी की पहली फैक्ट्री मुम्बई के ही करीब विले पार्ले में लागई गयी। फैक्ट्री बनने के बाद प्रोडक्ट्स बनाने के लिए कंपनी को वर्करों की जरूरत थी, जिसकी पूर्ति उनके घर मे ही हो गयी। क्योंकि चौहान जी का परिवार काफी बड़ा था, इसलिए उन्होंने परिवार के ही 12 लोगो के साथ मिलकर कंपनी की शुरुआत करी।

Parle G का पहला प्रोडक्ट बिस्किट नही था

आज के वक्त में पार्ले जी कंपनी को उनके बिस्किट्स प्रोडक्ट्स के लिए जाना जाता है, लेकिन आपको बता दे कंपनी ने अपना पहला प्रोडक्ट पार्ले ने बिस्किट नही कैंडी बनाई थी। कैंडी का नाम ऑरेंज बाईट था, जिसे ग्लूकोस, चीनी और दूध से बनाया गया था। Parle G Company का पहला प्रोडक्ट ऑरेंज बाईट ने भारतीय बाजार में तेजी से जगह बनाई, और देखते ही देखते भारतीय कैंडी बाजार को डोमिनेट कर गई।

50,000 से ज्यादा लोगो को देती है रोजगार

वर्ष 1929 में Parle G Company को परिवार के ही 12 लोगो के द्वारा शुरू किया गया था। जब कंपनी की शुरुआत हुई थी तब कंपनी में सिर्फ 12 कर्मचारी थे, लेकिन आज कंपनी के पास 50,500 से ज्यादा कर्मचारी है। आज Parle G Net worth की बात करे तो ये 45,000 करोड़ से ज्यादा है।

यह भी पढ़ें: Zoho Success story in hindi: गांव के आदमी ने बना दी हजारों करोड़ की कंपनी

12 लोगो ने बना दी 45,000 करोड़ की कंपनी

मोहनलाल दयाल चौहान साल 1929 में जर्मनी से मशीन इम्पोर्ट करके लाये थे, उस वक्त मशीनरी की कुल कीमत 60,000 रुपये थी। 1929 में शुरू की गई Parle G Company ग्लोबल बिस्किट मार्किट वर्ष 2020 में 50 फीसदी हिस्सेदारी के साथ सबसे बड़ी कंपनी थी। आज Parle G Net worth की बात करे तो ये 45,238 करोड़ की नेटवर्थ रखती है।

Parle G Success Story

FAQs

पार्ले जी कंपनी कब शुरू हुआ था ?

पार्ले जी कंपनी की शुरुआत सन 1929 में हुई थी।

पार्ले जी बिस्किट कितने देशों में मिलता है।

पार्ले जी हर महीने 100 करोड़ बिस्किट पैकेट का प्रोडक्शन करती है और दुनिया के 21 से ज्यादा देशों में एक्सपोर्ट करती है।

पार्ले जी की शुरुआत किसने की थी?

पार्ले जी कंपनी की शुरुआत सन 1929 में मोहनलाल दयाल चौहान जी ने परिवार के 12 लोगो की मदद से की थी।

Parle G Company की नेट वर्थ कितनी है?

पार्ले जी कंपनी की नेट वर्थ 45,238 करोड़ है।

Leave a Comment

Exit mobile version