इंफोसिस के पूर्व CEO नारायण मूर्ति के बयान पर इन कारोबारियों ने दी प्रतिक्रिया

हाल ही में नारायण मूर्ति पॉडकास्ट द रिकॉर्ड के साथ बातचीत में कहा कि यदि भारत को चीन,जापान, जर्मनी जैसी अर्थव्यवस्था से प्रतिस्पर्धा करना है तो युवाओं को डेली 12 घण्टे काम करना होगा।

आपको बता दे देश के अधिकतर सरकारी व प्राइवेट कंपनियों  मे अभी 8 से 9 घण्टे का वर्किंग कल्चर है।

मोहनदास पई से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मौजूदा समय मे भारत की वर्क प्रोडक्टिविटी दुनिया मे सबसे कम है।

वो कहते है भारतीय युवाओं को कहना चाहिए कि ये मेरा देश और मैं हफ्ते में 70 घण्टे काम करूंगा।

हालांकि नारायण मूर्ति के इस बयान पर विवाद उठ खड़ा हुआ है, इंटरनेट यूजर्स ने इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी है।

वहीं कुछ अन्य उद्योगपति व बुद्धजीवियों ने इनके इस बयान की प्रशंसा की है।

दिग्गज कारोबारी JSW ग्रुप के चेयरमैन सज्जन जिंदल इनका समर्थन करते हुए कहते है, 70 घंटे काम करना थकावट भरे काम से संबंधित नहीं है, बल्कि इसका सीधा संबंध समर्पण को लेकर है.